The Emotions Of Child

कोई ना जाने, कोई ना समझे
माँ जैसे तू पढ़ले मेरे दिल का हाल
कैसे जान जाए तू
में ख़ुश हूँ या उदास
माँ है तू या है भगवान
जो बिन बताए, करदे मेरे सारे काम
कोई ना जाने कोई ना समझे
माँ जैसे तू पढ़ले मेरे दिल का हाल
काश में भी जान पाती तेरा हाल
कब तू ख़ुश, कब रहती उदास
तेरे लिए नहीं कर पाई में कुछ ख़ास
तेरे भी तो सपने होंगे
जो तूने छोडे होंगे
ना जाने अपनी कितनी निंदिया
तुने मुझको दी
भूल कर तूने अपनी दुनिया
मेरी दुनिया बनाई
अपने ग़म छुपा कर
कैसे तू मुस्कुराए
मेरी दुआ यही
तेरी ग़म की वजह में ना बनू कभी
कोई ना जाने, कोई ना समझे
माँ जैसे तू पढ़ले मेरे दिल का हा

Want to read a beautiful poem about ‘The Importance of a Father’. Please click here